ताज़ा खबर
CM शिवराज एवं बीडी शर्मा पन्ना में जनकल्याण एवं सुराज सभा को करेंगे संबोधित युवती एसिड मामला- आंखें सुरक्षित-- प्रशासन,, जिले में कॉग्रेस का प्रदर्शन और ज्ञापन, एसपी कलेक्टर की प्रेस कॉन्फ्रेंस और धन्यवाद किशोरी पर एसिड अटैक,, मचा हड़कंप,, एसपी,कलेक्टर मिलने पहुंचे, कांग्रेस अध्यक्ष ने की कार्यवाही की मांग बरसते पानी में कांग्रेस का प्रदर्शन,,, स्वास्थ्य आव्यवस्थाओं के खिलाफ दिया ज्ञापन

मजदूर को मिला बडा हीरा ,,,, छप्पर फाड़ के

मजदूर को मिला बडा हीरा ,,,, छप्पर फाड़ के


मजदूर को मिला हीरा ,,,, छप्पर फाड़ के

छोटे से पत्थर में बदल दी तकदीर
(शिवकुमार त्रिपाठी)
पन्ना की तमन्ना है कि हीरा मुझे मिल जाए, हीरा की तमन्ना है कि पन्ना मुझे मिल जाए ,,, यह गीत पन्ना में उस समय चरितार्थ हो गया जब खेत में छोटी सी खदान लगाकर हीरा खोद रहे प्रकाश कुमार शर्मा को 12 .58 कैरेट का हीरा छप्पर फाड़ के मिला , जैसे ही हीरा मिला प्रकाश की आंखें चकाचौंध हो गए प्रकाश ने दो साथियों के साथ मिलकर यह हीरा खदान सरकोहा स्थित किततू रैकवार के खेत में लगाई थी उसे भरोसा ही नहीं था इतना बड़ा हीरा मिलेगा लेकिन कहते हैं कि जब भगवान देता है तो छप्पर फाड़ के देता है कुछ ऐसा ही प्रकाश शर्मा के साथ हुआ जैम क्वालिटी के इस बेहतरीन हीरे की कीमत 50 लाख बताई जा रही है
पन्ना के कलेक्ट्रेट स्थित हीरा कार्यालय में खड़ा यह मजदूर प्रकाश शर्मा है जो अचानक चर्चा का विषय बन गया क्योंकि प्रकाश को किस्मत बदल देने वाला एक खूबसूरत हीरा मिला है 12.58 कैरेट के इस हीरे की कीमत 50 लाख बताई जा रही है प्रकाश अब तक मजदूरी करता रहा है लेकिन जिस तरीके से पन्ना की धरती हीरे उगलती है और रातों-रात मजदूर लखपति बन जाता है वैसा ही प्रकाश के साथ हो गया अब प्रकाश रोजगार धंधा करेगा प्रकाश ने हीरा मिलने की खुशी इस तरीके से व्यक्त की

हीरा अधिकारी कहते हैं कि इसकी कीमत मिनिमम 25 लाख रुपए है और यह 50 लाख का भी बिक सकता है कहां इस हीरे को सरकारी खजाने में जमा कर लिया गया है अगले माह होने वाले ऑप्शन में नीलाम किया जाएगा

वरना मैं तो कई 20 कीमती हीरे मिले हैं लेकिन इतना बड़ा हीरा 4 साल बाद इस कार्यालय में जमा कराया गया है जिससे कार्यालय के कर्मचारी भी खुश है ज्ञात हो कि राजस्व और वन भूमि विवाद के कारण पन्ना की अधिकांश हीरा खदानें बंद हो गई हैं इस कारण से हीरा उद्योग चौपट हो गया अब यह जो हीरा मिला है इससे नई उम्मीद जगी है

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी