ताज़ा खबर
CM शिवराज एवं बीडी शर्मा पन्ना में जनकल्याण एवं सुराज सभा को करेंगे संबोधित युवती एसिड मामला- आंखें सुरक्षित-- प्रशासन,, जिले में कॉग्रेस का प्रदर्शन और ज्ञापन, एसपी कलेक्टर की प्रेस कॉन्फ्रेंस और धन्यवाद किशोरी पर एसिड अटैक,, मचा हड़कंप,, एसपी,कलेक्टर मिलने पहुंचे, कांग्रेस अध्यक्ष ने की कार्यवाही की मांग बरसते पानी में कांग्रेस का प्रदर्शन,,, स्वास्थ्य आव्यवस्थाओं के खिलाफ दिया ज्ञापन

मुरलिया में हीरा जड़े,,,, पन्ना में जय जुगल किशोर की गूंज

मुरलिया में हीरा जड़े,,,, पन्ना में जय जुगल किशोर की गूंज

मुरलिया मे हीरा जडे है
गूॅजने लगे बुदेली गीत और लमटेरा ़
हीरा जडित मुरली धारण की जुगल किशोर जी ने

(शिवकुमार त्रिपाठी पन्ना)

जनामष्टमी आते ही पन्ना का माहौल मथुरा ब्रदाबंन की तरह हो गया है बुदेलखण्ड की सबसे बडी आस्था का केन्द्र भगवान जुगल किशोर मंदिर मे हर जगह बुदेली गीत और लमटेरा सुनाई देने लगे है पूरे बुदेलखण्ड से पहुॅच श्रदालू भक्त भगवान जुगल किशोर की एक झलक पाने के लिये उमड उठे है जुगल किशोर के जनम के लिये मंदिर को रंगीन प्रकाश और बंदन बारो से सजाया गया हीै और भगवान जुगल किशोर के उपर पूरे बुदेलखण्ड मे एक ही लोकभजन गाया जाता है कि पन्ना के जुगल किशोर हो मुरलिया मे हीरा जउे है महिलाएॅ बच्चे और बुर्जग हर शुभ कार्य मे जुगल किशोर की मुरलिया मे हीरा जउे का भजन भी गाती है और आज जमोत्सब के दौरान भगवान राजशाही जमाने की हीरा जडित मुरली को धारण करेगे
पन्ना शहर के बीच मध्य मे स्थित इस मंदिर का निर्माण तत्कालीन पन्ना नरेश राजा हिन्दूपत ने सम्बत 1813 मे निर्माण कराया था उत्तर मध्यकालीन और बुदेली स्थापत्य कला मे निर्मित इस मंदिर मे भगवान की प्रतिमा ब्रदांबन से लाकर स्थापित कराया गया था इस कारण बही ब्रदांबन जैसा महत्ब पन्ना के जुगल किशोर जी मंदिर का है इसी कारण से सुबह 4 बजे से ही दरबाजा खोलने के लिये भक्त बुदेली गीत लमटेरा गाने लगते है
कहते है कि भगवान जुगल किशोर के राज्य मे कोई भूखा नही सोता तभी तो भगवान को भोग दोपहर तीन और रात मे दस बजे लगाया जाता है जब भकत खाना खा चुके होते है
जैसे ही रात मे 12 बजेगे बैसे ही भगवान जुगल किशोर के जन्म के साथ ही बाल्य रूप मे दर्शन होगे और आज भगवान हीरा जडित मुरली धारण करेगे शोभायात्रा निकलेगी और देशी धी से निर्मित प्रसाद का बिशाल भंडारा होगा जनमोत्सब पर बुदेलखण्ड के लोग यहाॅ आते है

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी