ताज़ा खबर
CM शिवराज एवं बीडी शर्मा पन्ना में जनकल्याण एवं सुराज सभा को करेंगे संबोधित युवती एसिड मामला- आंखें सुरक्षित-- प्रशासन,, जिले में कॉग्रेस का प्रदर्शन और ज्ञापन, एसपी कलेक्टर की प्रेस कॉन्फ्रेंस और धन्यवाद किशोरी पर एसिड अटैक,, मचा हड़कंप,, एसपी,कलेक्टर मिलने पहुंचे, कांग्रेस अध्यक्ष ने की कार्यवाही की मांग बरसते पानी में कांग्रेस का प्रदर्शन,,, स्वास्थ्य आव्यवस्थाओं के खिलाफ दिया ज्ञापन

एडिशनल एसपी के नाम से ठगी, FIR दर्ज,, पुलिस में हड़कंप

एडिशनल एसपी के नाम से ठगी, FIR दर्ज,, पुलिस में हड़कंप

डिशनल एसपी के नाम पर ठगी,

पेट्रोल पंप संचालक से पैसे हड़पे,

अजयगढ़ थाने में FIR दर्ज,

पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

पैसे की ठगी का नया तरीका

अब तक एटीएम कार्ड और ओटीपी पूछकर खातों से पैसे हड़पने के खूब मामले प्रकाश में आते रहे हैं पर पन्ना में एक अजीब तरह का मामला प्रकाश में आया है जब दूर बैठे ठगों ने एडिशनल एसपी के नाम पर पेट्रोल पंप संचालक से पैसे खाते में डलवा लिए और इस पैसे हड़पे जाने के बाद से जिले में हड़कंप मचा हुआ है

दरअसल दूर बैठे ठग ने पहले कंट्रोल रूम से जिले के थानों के अधिकारी और वहां के हेड मुंशी के नंबर लिए और एडिशनल एसपी बीकेएस परिहार के नाम पर फोन किया और कहा कि पेट्रोल पंप संचालक से मेरी बात कराओ और जब पेट्रोल पंप संचालक ने बात की तो एडिशनल एसपी के नाम से पैसे मांगे कई पेट्रोल पंप संचालकों ने तो सीधे एडिशनल एसपी बीकेएस परिहार से संपर्क किया तो उन्होंने पैसे मांगने से मना कर दिया

पर अजयगढ़ के पेट्रोल पंप संचालक संजय सुल्लेरे ने जब थाने के आरक्षक आईमत सेन द्वारा दिए गए संदेश को पर और आरक्षक के कहने पर उस नंबर पर बात की और 50,000 खाते में डाल दिए यह पैसे ठगे जाने के बाद जब संजय सुल्लेरे ने एडिशनल एसपी से संपर्क किया तो देर हो चुकी थी और खाते से पूरे पैसे निकल गए इस तरीके की ठगी के इस नए मामले से हड़कंप मचा हुआ है और जब पुलिस के नाम पर ही लोग ठगे जा रहे हैं ठग उन्हीं का सहारा ले रहा है

और जिले की पुलिस भी उस में मदद कर रही है तो लोग कैसे सुरक्षित रहे एफ आई आर दर्ज करने के बाद पुलिस ने ठगों का पता लगाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं

एसपी मयंक अवस्थी ने बताया कि किसी ठगने एडिशनल एसपी का सहारा लेकर पैसा लिया है हम पता लगा रहे हैं खाता और मोबाइल नंबर के नाम पर पुलिस को तक पहुंचेगी एडिशनल एसपी बीकेएस परिहार ने कहा कि ना तो मैंने किसी से पैसे मांगे ना किसी पुलिस आरक्षक को मैंने पैसे के लिए भेजा जबकि संजय सुल्लेरे के पास अजयगढ़ में पदस्थ आरक्षक आईमत सेन ही फोन नंबर लेकर पहुंचा था जिससे पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी संदेह हो रहा है
दुर्भाग्य की बात है कि थाने की पुलिस ऐसे ठगों की झांसी में आ गई और पुलिस आरक्षक ओं की कहने पर पेट्रोल पंप संचालक भी खाते में पैसे डालने को तैयार हो गए कुछ नहीं दिमाग लगाया सीधे संपर्क किया तो बच गए और जिसने डाले वह ठगे गए पर पुलिस को भी अपने इतने बड़े अधिकारी के नाम पर इस तरीके से त्योहार पर दिमाग लगाना चाहिए अब सोचे कि पुलिस स्मार्ट है या क्या

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी