ताज़ा खबर
डॉ मीना नामदेव के घर डकैती का खुलासा , तीन आरोपी गिरफ्तार, डकैतों से 24 लाख का सामान और नकदी बरामद SJS पब्लिक स्कूल में अभिभावकों के लिए निशुल्क प्रेजेंटेशन,,,1मई2022 को, दुखी पिता की आस टूटी,,, नहीं रहा शिव,,,, बनारस में यूपी पुलिस की अभिरक्षा से गायब पन्ना के शिव की डीएनए से मौत की पुष्टि,,,, हाईकोर्ट के दखल के बाद वह मामले का खुलासा बहुचर्चित नहरपट्टी जमीन मामले में ग्रीनट्रिब्यूनल (NGT) का फैसला, याचिका खारिज, 25हजार का जुर्माना, जारी रहेगा पथ बिहार का निर्माण

दिग्विजय सिंह भाजपा अध्यक्ष से माफी मांगे :- राजेश वर्मा

दिग्विजय सिंह भाजपा अध्यक्ष से माफी मांगे :- राजेश वर्मा

पन्ना की जमीन मामले में जुर्माने के बाद हमारे अध्यक्ष से माफी मांगे दिग्विजय सिंह : राजेश वर्मा

(शिवकुमार त्रिपाठी) भारतीय जनता पार्टी जिला पन्ना के जिला महामंत्री पूर्व विधायक राजेश वर्मा ने कहा कि पन्ना राजघराने से संबंध रखने वाली दिव्या रानी पर न्यायालय द्वारा अर्थदण्ड लगाए जाने के बाद यह सिद्ध हो गया है कि दिव्या रानी सरकारी जमीन पर जबरन कब्जा बनाए रखना चाहती थी। यह वही मामला है जिसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष  विष्णुदत्त शर्मा पर अनर्गल आरोप लगाए थे। न्यायालय की कार्यवाही के बाद दिग्विजय सिंह को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सहित प्रदेश की जनता से अपनी करतूतों के लिए माफी मांगना चाहिए। मै यह मांग करता हूँ ।

पूर्व विधायक डॉ राजेश वर्मा

श्री वर्मा ने कहा है कि दिग्विजय सिंह आए दिन ऊलजलूल बयान देकर राजनीति और समाज का वातावरण खराब करते रहते हैं। अपनी इसी आदत के तहत उन्होंने इस सरकारी जमीन को लेकर दिव्या रानी को अनैतिक संरक्षण देने का प्रयास किया और जब शासन प्रशासन ने दिव्या रानी के अवैध कब्जे को हटाने की कार्यवाही प्रारंभ की तो दिग्विजय सिंह ने  विष्णुदत्त शर्मा पर अनर्गल आरोप लगाकर मामले को राजनैतिक रंग देने की कोशिश की। हम माननीय न्यायालय के आभारी हैं जिनकी कार्यवाही ने दूध का दूध, पानी का पानी कर दिया है। उल्लेखनीय है कि दिव्या रानी ने कांग्रेस शासनकाल में फलदार वृक्ष लगाने की योजना के तहत एक सरकारी जमीन ली थी, लेकिन उस जमीन पर फलदार वृक्ष लगाने के स्थान पर कब्जा कर अनैतिक कार्यवाहियां प्रारंभ कर दी गयी। जब प्रशासन ने नियमानुसार जमीन वापस लेने के प्रयास किए तो दिव्या रानी आदि ने प्रशासन के प्रयासों को विफल करने का प्रयास किया। दुर्भाग्य से प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके दिग्विजय सिंह ने भी इस सरकारी जमीन पर कब्जा बनाए रखने की दिशा में दिव्या रानी को राजनैतिक संरक्षण देने की कोशिश की। लेकिन आज जिस प्रकार से मामला उजागर हुआ है उसके बाद दिग्विजय सिंह के पास  विष्णुदत्त शर्मा से सार्वजनिक माफी मांगने के अलावा कोई रास्ता बचा नहीं है।

 

 

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी