ताज़ा खबर
मतदान 17 को,,, पीले चावल देकर वोट डालने किया आमंत्रित भाजपा ने नहीं किया बुंदेलखंड का विकास,,, भरत मिलन के पक्ष में की रोशनी यादव ने जनसभा, उमड़ी भीड़ कांग्रेस समस्या है, भाजपा समाधान - आदित्यनाथ,,, भाजपा प्रत्याशी बृजेंद्र प्रताप सिंह के समर्थन में की सभा मांगे वोट पन्ना जिले में पवई मे 16, गुनौर में 9 और पन्ना में 11 प्रत्याशी चुनावी मैदान में,,,, मुख्यमंत्री ने देवेंद्रनगर में डॉक्टर राजेश वर्मा के पक्ष में की सभा

पन्ना में कमल खिला,,, मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, प्रहलाद लोधी और राजेश वर्मा को कमान

पन्ना में कमल खिला,,, मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह, प्रहलाद लोधी और राजेश वर्मा को कमान

″•

कांग्रेस का हांथ जिले में साफ, पन्ना की तीनों विधानसभाओं में खिला कमल

भाग्य के धनीं प्रहलाद लोधी को जिले मेें मिली सबसे बडी जीत २२०४३ मतों से विजयी

विकास से बृजेन्द्र प्रताप सिंह को मिला फिर जनता का आर्शीवाद, १७९१० मतों की जीत

·
पिछली बार हार गए थे राजेश वर्मा, कांटे के मुकाबले में ११६० मतों से जीतकर की वापिसी


(शिवकुमार त्रिपाठी पन्ना) पन्ना विधानसभा में विकास की नई इमारत लिखने वाले श्री बृजेंद्र प्रताप सिंह को पन्ना की मतदाताओं ने अपना समर्थन देकर बड़ी जीत दी है जिससे पन्ना में फिर नए विकास के आयाम लिखे जाने की शुरुआत हो गई स्वच्छ छवि के मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह को घाटी यानी अजयगढ़ की क्षेत्र में बराबर वोट मिले तो पन्ना में अच्छा समर्थन देते हुए मतदाताओं ने सिरमौर बनाया है वही गुनौर विधानसभा से पूर्व विधायक राजेश वर्मा ने कांटे की टक्कर के साथ कांग्रेस प्रत्याशी जीवनलाल सिद्धार्थ को हरा दिया पवई में फिर एक बार मुकेश नायक को हर का सामना करना पड़ा है वर्तमान विधायक प्रहलाद लोधी ने मुकेश नायक को फिर से बड़े अंतर से हरा दिया,, अब जिले का नेतृत्व इन्हीं कद्दावर नेताओं के हाथ में होगा

विधानसभा चुनाव २०२३ के लिए मध्य प्रदेश की सभी २३० विधानसभाओं के लिए दिनांक १७ नवम्बर को मतदान सम्पन्न हुआ था। भाजपा की फिर से सरकार बनेगी या फिर परिवर्तन के नारे के साथ कांग्रेस की सत्ता में वापिसी होगी। इसको लेकर दावे किए जा रहे थे जिसका पटाक्षेप आज ३ दिसम्बर को हुई मतगणना के साथ ही परिणाम आने से साफ हो गया। भाजपा को प्रदेश में प्रचण्ड मतों के साथ जीत हांसिल हो चुकी है। प्रदेश व्यापी भारतीय जनता पार्टी की लहर में पन्ना जिले में कांग्रेस का पूरी तरह से सफाया हो गया है। पन्ना जिले की तीनों विधानसभाओं में से वर्ष २०१८ में कांग्रेस ने गुनौर विधानसभा में जीत दर्ज की थी परंतु वर्ष २०२३ के चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने अपनी गुनौर विधानसभा सीट भी गवां दी। भाजपा को जिले की तीनों विधानसभाओंं में से दो विधानसभाओं पन्ना व पवई में जहां एक बार फिर से बडी जीत हांसिल हुई है वहीं गुनौर विधानसभा क्षेत्र में कांटे के मुकाबले में भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस की सीट को छींनने में कामयाब हो गई है। जिले में सबसे बडी जीत पवई विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी विधायक प्रहलाद लोधी को मिली। श्री लोधी ने अपने निकटतम प्रत्याशी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री मुकेश नायक को करारी शिकस्त देते हुए २२०४३ मतों से पराजित कर दिया। भाजपा के प्रहलाद लोधी को १०६४११ मत तथा कांग्रेस के मुकेश नायक को ८४३६८ मत प्राप्त हुए। पवई विधानसभा क्षेत्र से कुल १६ प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे भाजपा तथा कांग्रेस को छोडकर चुनावी मैदान में खडे सभी प्रत्याशी अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।

जिले के पन्ना विधानसभा क्षेत्र की जनता ने मध्य प्रदेश शासन के मंत्री बृजेन्द्र प्रताप ङ्क्षसह को उनके विकास कार्यों से फिर से अपना आर्शीवाद दिया। पन्ना विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने कांग्रेस के प्रत्याशी भरत मिलन पाण्डेय को १७९१० मतों के अंतर से पराजित किया। बृजेन्द्र प्रताप ङ्क्षसह ने ९६६६८ मत प्राप्त किए वहीं कांग्रेस के भरत मिलन पाण्डेय को ७८७५८ मत प्राप्त हुए। पन्ना विधानसभा क्षेत्र में कुल ११ प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे जिनमें से भाजपा व कांग्रेस प्रत्याशी को छोडकर चुनावी मैदान में खडे हुए अन्य प्रत्याशी अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए। विधानसभा में बसपा एवं समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की हालत भी काफी दयनीय रही। जिले के तीसरे विधानसभा क्षेत्र अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित गुनौर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी राजेश वर्मा ने कांग्रेस के प्रत्याशी जीवनलाल सिद्धार्थ को कडे मुकाबले में ११६० मतों के अंतर से पराजित किया।

भाजपा प्रत्याशी राजेश वर्मा को ७७१९६ मत मिले वहीं कांग्रेस के इंजीनियर जीवनलाल सिद्धार्थ को ७६०३६ मत प्राप्त हुए। गुनौर विधानसभा में कुल ९ प्रत्याशी चुनावी मैदान में थे इस विधानसभा क्षेत्र में भी भाजपा व कांग्रेस को छोडकर सभी सात प्रत्याशी अपनी जमानत भी नहीं बचा पाए।

पन्ना विधानसभा में घाटी चढ़ते ही फूल खिला


पन्ना विधानसभा क्षेत्र में घाटी के नीचे जो कि अजयगढ का क्षेत्र कहा जाता है इसी क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी द्वारा भरत मिलन पाण्डेय को अपना प्रत्याशी बनाया गया था। कांग्रेस समर्थक विशलेषक घाटी के नीचे कांग्रेस प्रत्याशी की बढी बढत का दावा कर रहे थे और इसी घाटी के नीचे कितना दम है इसको लेकर लगातार चुनावी परिणामों के अनुमानों पर चर्चा हो रही थी परंतु कांग्रेस का घार्टी पर जीत का बडा दावा हुई मतगणना में घाटी के नीचे के मतदान केन्द्रों की गिनती के सामने आने से धराशायी हो गया।

घाटी के नीचे बडा दमखम बताने वाली कांग्रेस पार्टी महज लगभग १२५ मतों से भाजपा प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह से बढत बना पाई और जैसे ही घाटी के ऊपर के मतदान केन्द्रों की गिनती शुरू हुई कमल का फूल इस तरह खिला कि पन्ना विधानसभा क्षेत्र में मुकाबला कांटे का भी नहीं रह गया और भाजपा के प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने अनुमानों से कहीं अधिक १७९१० मतों के अंतर से बाजी मार ली। भाजपा के प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने अपना पूरा चुनाव पन्ना विधानसभा क्षेत्र में किए गए अभूतपूर्व विकास कार्यों के नाम पर लडा था जिस पर जनता ने उनके विकास पर पूरा विश्वास जताते हुए प्रचण्ड मतों से जीत को उनकी झोली में डाल दिया। वहीं कांग्रेस पार्टी की ओर से जाति और घाटी का जो चक्रव्यू तैयार किया गया था वह बृजेन्द्र प्रताप सिंह के विकास कार्यों, नारों और वादों के साथ टूटकर धराशायी हो गया।
पवई विधानसभा में विकास के साथ क्षेत्रवाद का चला जादू
पवई विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी प्रहलाद लोधी ने कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री मुकेश नायक को २२०४३ मतों के अंतर से पराजित करते हुए जिले में सबसे बडी जीत हांसिल की है। दूसरी बार जीत हांसिल कर प्रहलाद लोधी ने अपने आपको फिर से भाग्य का धनीं साबित किया। वर्ष २०१८ में जिला पंचायत सदस्य रहते हुए चुनाव लडने के प्रबल इरादे के साथ समाजवादी पार्टी से टिकिट हांसिल कर प्रहलाद लोधी ने विधानसभा चुनाव के लिए पर्चा भी दाखिल कर दिया था। सपा प्रत्याशी के रूप में वह कितने मत हांसिल कर पायेंगे इस पर भी कोई गौर नहीं कर रहा था परंतु पवई विधानसभा क्षेत्र में वर्ष २०१८ में पवई विधानसभा से बृजेन्द्र प्रताप सिंह की टिकिट घोषित करने के बाद उनकी घोषित टिकिट को बदलकर पन्ना विधानसभा से प्रत्याशी बना दिया गया था तथा सपा से घोषित प्रत्याशी के रूप में प्रहलाद लोधी को भाजपा ने पार्टी में शामिल करते हुए पवई विधानसभा क्षेत्र से टिकिट दे दी। क्षेत्रवाद के नारे के बीच पवई विधानसभा क्षेत्र से करीब २४ हजार से अधिक मतों से जीत हांसिल कर पवई विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुने गए। विधायक चुने जाने के बाद वर्ष २०२० में कोविड के संक्रमण के चलते उन्हें जीवन संकट के दौर से गुजरना पडा इसके साथ ही साथ पैर के खराब हो जाने की वजह से वह अपने पूरे कार्यकाल के दौरान असहनीय दर्द झेलते हुए बार-बार उपचार के लिए अस्पतालों में भर्ती रहे। ऐसे में वह अपने क्षेत्र में अधिक समय नहीं दे पाए।

श्री लोधी के स्वास्थ्य कारणों के चलते ज्यादातर लोगों का अनुमान था कि उन्हें पार्टी से वर्ष २०२३ में टिकिट नहीं मिलेगी इसको लेकर भाजपा से टिकिट की दावेदारी कर रहे कई दावेदारों ने एक मंच पर उतरकर उनका खुला विरोध शुरू कर दिया किंतु कहते हैं कि भाग्य जब प्रबल होता है तो कांटे अपने आप ही साफ हो जात हैं। कुछ ऐसा ही हुआ कि प्रहलाद लोधी को भाजपा द्वारा २०२३ में भी पवई विधानसभा से प्रत्याशी बना दिया गया। कांग्रेस से मुकेश नायक उनके सामने फिर से एक बार मुकाबले में थे। शुरूआत में लोग यह दावा करने लगे कि कांग्रेस के नेता मुकेश नायक के सामने प्रहलाद लोधी दूर-दूर तक टिक भी नहीं पायेंगे किंतु प्रबल भाग्य से प्रहलाद लोधी को लेकर जो प्रतिकूल परिस्थितियां दिख रहीं थीं वहीं उनके अनुकूल होने लगीं। भाजपा के विकास, जनकल्याण और लाडली बहिना योजना के साथ क्षेत्रवाद का जादू पवई विधानसभा क्षेत्र में जमकर चला और वह दूसरी बार पवई विधानसभा क्षेत्र से भारी मतों से जीत हांसिल करने में कामयाब हो गए हैं।

जीवन की किस्मत से इस बार भी दूर हुई विधायकी


गुनौर विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी द्वारा इंजीनियर जीवनलाल सिद्धार्थ को इस बार प्रत्याशी बनाया गया था इंजीनियर जीवनलाल सिद्धार्थ द्वारा अपना राजनैतिक जीवन बहुजन समाज पार्टी से शुरू किया था और बसपा में रहते हुए वह लगातार कडी मेहनत करते रहे। बहुजन समाज पार्टी से वह लगातार चार बार विधानसभा का चुनाव लडे दो बार वह दूसरे स्थान पर भी रहे। विधानसभा चुनाव में उन्हें हर बार अच्छे खासे मत भी प्राप्त होते रहे और बसपा से वह जीत नहीं पा रहे हैं। इसे देखते हुए उन्होंने वर्ष २०१८ में कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर ली। पूर्व विधानसभा चुनाव में उनके मतों की टेली को देखते हुए कांग्रेस पार्टी द्वारा अपने वर्तमान विधायक शिवदयाल बागरी की टिकिट काटकर कांग्रेस का प्रत्याशी भाजपा के राजेश वर्मा के मुकाबले घोषित कर दिया गया। बसपा की पृष्ठभूमि और कांग्रेस के हांथ के साथ इस बार गुनौर विधानसभा से उनकी जीत को लेकर ज्यादातर विशलेषक अनुमान लगा रहे थे। तमाम विशलेषक गुनौर विधानसभा को ही कांग्रेस के लिए मजबूत सीट के तौर पर देख रही थी किंतु आज जब मतों की गणना हुई तो जीवन के करीब आकर विधायकी उनसे दूर हो गई। भाजपा प्रत्याशी राजेश वर्मा जो कि वर्ष २०१८ के चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिवदयाल बागरी से मामूली अंतर से हार गए थे और इस बार कांटे के मुकाबले में जीवनलाल सिद्धार्थ को पराजित करने में वह सफल हुए।

कर्मचारियों ने भाजपा को तीनों विधानसभाओं में हराया

विधानसभा चुनाव को लेकर कर्मचारियों में पुरानी पेंशन की बहाली सबसे बडे मुद्दे के रूप में देखने को मिली। कांग्रेस पार्टी द्वारा प्रदेश में सरकार बनने पर कर्मचारियों के लिए ओल्ड पेंशन स्कीम को फिर से लागू किए जाने की घोषणा की थी। वहीं भाजपा ओल्ड पेंशन स्कीम की प्रबल मांग के बावजूद इसे लागू करने के वायदे को लेकर दूर थी। जिसके चलते विधानसभा चुनाव में ज्यादातर कर्मचारी कांग्रेस के पक्ष में नजर आए। इसका रूप डाक मतपत्र से मतदान करने वाले मतदाताओं जिसमें राज्य के कर्मचारी जो कि चुनाव ड्यूटी में रहे उनकी संख्या कहीं अधिक थी उन्होंने पन्ना जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा के खिलाफ और कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया। जिले के पन्ना विधानसभा क्षेत्र के लिए कुल २११८ डाक मतपत्र पडे जिसमें भाजपा के प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप ङ्क्षसह को मात्र ३८५ मत प्राप्त हुए उनके मुकाबले कांग्रेस पार्टी के भरत मिलन पाण्डेय को १०११ मत मिले तथा ६९८ डाक मत निरस्त हो गए। इसी तरह गुनौर विधानसभा के लिए कुल १५९३ डाक मत पत्र पडे जिनमें भाजपा के राजेश वर्मा को २८९ डाक मत मिले तथा कांग्रेस के जीवनलाल सिद्धार्थ को ८५३ डाक मत मिले वहीं ३९९ डाक मत निरस्त हो गए। जिले की पवई विधानसभा में कुल १४६२ डाक मत डले जिनमें से भाजपा के प्रहलाद लोधी को २८५ मत व कांग्रेस के मुकेश नायक को ७५८ डाक मत मिले तथा ३८१ डाक मत पत्र निरस्त कर दिए गए।
कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच हुई मतगणना

तीनों विधानसभाओं के लिए मतगणना का कार्य पन्ना जिला मुख्यालय स्थित पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सम्पन्न हुआ। पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में मतगणना के लिए आज सुबह ७ बजे विधानसभावार स्ट्रांग रूमों में रखी गई ईव्हीएम मशीनों को निकाला गया तथा विधानसभावार गणना कक्षों में लगाई गई १४-१४ टेबिलों में मशीनों को रखा गया। गणना के लिए मतगणना कर्मियों की टेबिलों के लिए रेण्डमाइजेशन के लिए चयन किया गया। ईव्हीएम मशीनों के साथ ही डाक मतपत्रों को भी स्ट्रंाग रूम से निकालकर लाया गया। डाक मतों की गणना के कार्य के लिए कार्यवाही सुबह ८ बजे से शुरू हुई। वहीं साढे ८ बजे से मतगणना कक्षों में ईव्हीएम मशीनों की चक्रवार गणना की प्रक्रिया शुरू हुई। पवई विधानसभा क्षेत्र में शुरूआत से ही भाजपा के प्रत्याशी प्रहलाद लोधी की बढत मिलने शुरू हो गई थी वहीं गुनौर विधानसभा क्षेत्र को लेकर प्रत्येक चक्रों में करीबी की स्थिति अंत तक देखने मिलीं। जबकि पन्ना विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह की प्रारंभिक दो चक्रों में बढत रही। इसके बाद कांग्रेस प्रत्याशी भरत मिलन पाण्डेय करीब दस चक्र तक अपनी बढत बनाने में कामयाब नजर आए और दस चक्रों के बाद कांग्रेस की जो मामूली बढत थी वह स्थिर हो गई और शेष चक्रों में भाजपा प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह लगातार बढत बनाए रहे और भारी मतों के अंतर से जीत हासिल की। मतगणना के लिए पूरे पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में कडे सुरक्षा के प्रबंध किए गए थे। पासधारी व्यक्तियों को भी सुरक्षा जांच के बाद प्रवेश दिया गया। पूर्व के चुनाव में कव्हरेज के लिए मीडिया सेंटर अंदर बनाया जाता था परंतु इस बार मीडिया सेंटर परिसर क्षेत्र में बनाया गया जिससे मीडियाकर्मियों को चुनाव से संबधित जानकारियों को त्वरित रूप से हांसिल करने में काफी असुविधा का सामना करना पडा।
मतदान केन्द्र के बाहर वाहनों की लगीं कतारें

मतगणना के चलते जहां आज कडे सुरक्षा के प्रबंध किए गए थे वहीं मतगणना के नतीजों को जानने को लेकर पार्टी के कार्यकर्ताओं, समर्थकों के साथ ही जनमानस में उत्साह देखने मिला। मतगणना कार्य में लगे कर्मचारियों, अधिकारियों के साथ ही गणना एजेन्टों, पार्टी कार्यकर्ताओं के वाहनों की संख्या इतनी अधिक हो गई थी कि पालीटेक्निक कालेज के ग्राउण्ड से लेकर अस्पताल तिराहा और ब्लाक तिराहा रोड पुराने उद्योग विभाग के मोहल्ले में भी वाहनों की कतार लगी रही। नतीजों को जानने के लिए मतगणना शुरू होने के साथ ही भारी भीड पूरे समय तक जमीं रही और समर्थकों में परिणामों के आने के साथ ही उत्साह बढता चलता जायेगा। कांग्रेस खेमा जहां परिणामों को लेकर निराश था वहीं भाजपा के कार्यकर्ता और नेता जीत के जश्न में सरोबार हो गए।

 

जीत के जश्न में आतिशबाजी से गूंजा शहर

प्रदेश के साथ भाजपा को जिले की तीनों विधानसभाओ में मिली प्रचण्ड जीत का जश्न परिणाम आने के साथ ही शुरू हो गया था। पालीटेक्निक महाविद्यालय में बडी संख्या में भाजपा के समर्थक और कार्यकर्ता सुबह से मौजूद थे और जैसे ही भाजपा प्रत्याशियों की बढत और उनकी जीत को लेकर तस्वीर साफ होनी शुरू हुई तो आतिशबाजी का दौर शुरू हो गया। दोपहर करीब २ बजे के बाद से शहर में स्थिति यह हो गई कि जीत का जश्न मनाते हुए सडकों, चौराहों के साथ मोहल्ले में भाजपा के कार्यकर्ताओं और समर्थकों के द्वारा जमकर पटाखे फोडे गए साथ ही साथ जीत के जश्न में बैण्ड बाजे के साथ झूमने लगे। जिला मुख्यालय पन्ना में बृजेन्द्र प्रताप सिंह को मिली बडी जीत के साथ पार्टी के कार्यकर्ताओं और समर्थकों में कुछ ही समय के अंतराल में जीत और बधाई के बैनर और पोस्टरों से शहर को भर दिया

पन्ना विधानसभा क्षेत्र के अंतिम रूप से चुनावी परिणाम सबसे पहले सामने आए। चुनाव परिणामों की घोषणा के साथ ही रिटर्निंग ऑफिसर पन्ना विधानसभा क्षेत्र एसडीएम पन्ना अशोक अवस्थी द्वारा पन्ना विधानसभा से विजयी प्रत्याशी बृजेन्द्र प्रताप सिंह को जीत का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। पन्ना विधानसभा क्षेत्र के बाद देर शाम गुनौर विधानसभा क्षेत्र के ईव्हीएम और डाक मतपत्रों की कार्यवाही पूर्ण होने के बाद विधानसभा क्षेत्र से विजयी प्रत्याशी राजेश वर्मा को रिटर्निंग ऑफिसर गुनौर विधानसभा क्षेत्र द्वारा जीत का प्रमाण पत्र दिया गया। सर्वाधिक २४ चक्र में गणना होने की वजह से सबसे अंत में पवई विधानसभा क्षेत्र के ईव्हीएम और डाक मतपत्र की गणना पूरी हुई और परिणामों का सारणीकरण किए जाने के बाद पवई विधानसभा क्षेत्र से विजयी प्रत्याशी भाजपा के प्रहलाद लोधी को रिटर्निंग ऑफिसर पवई द्वारा जीत का प्रमाण पत्र दिया गया।
विधानसभावार चुनाव परिणाम एक नजर में

पन्ना विधानसभा


प्रत्याशी दल ईव्हीएम से डाक से कुल मत
बृजेन्द्र प्रताप सिंह भाजपा ९६२८३ ३८५ ९६६६८
भरत मिलन पाण्डेय कांग्रेस ७७७४७ १०११ ७८७५८
महेन्द्र पाल वर्मा सपा २८७० ०७ २८७७
विमला अहिरवार बसपा २८४३ १२ २८५५
मेवालाल अहिरवार असपा ११३७ ०१ ११३८
राजेश श्रीवास्तव निर्दलीय १०५६ ० १०५६
सोनेलाल प्रजापति निर्दलीय ९११ ०२ ९१३
जिज्ञासा कन्नौजिया निर्दलीय ८७९ ०२ ८८१
मो० इकराम निर्दलीय ६३५ ० ६३५
नंद कुमार व्यास निर्दलीय ४८४ ० ४८४
फिरोज खान निर्दलीय ३६४ ० ३६४
नोटा २३६४ ० २३६४
कुल १८७५७३ १४२० १८८९९३
निरस्त मत ६९८

गुनौर विधानसभा


  1. प्रत्याशी दल ईव्हीएम से डाक से कुल मत
    राजेश वर्मा भाजपा ७६९०७ २८९ ७७१९६
    जीवनलाल सिद्धार्थ कांग्रेस ७५१८३ ८५३ ७६०३६
    देवीदीन अहिरवार बसपा ५९२७ १९ ५९४६
    अमिता बागरी सपा ३८७४ १८ ३८९२
    संतलाल प्रजापति निर्दलीय ८०८ ०१ ८०९
    परशु चौधरी निर्दलीय ७७८ ०१ ७७९
    पूरनलाल कोरी निर्दलीय ५९५ ०३ ५९८
    अरविंद बागरी विंजपा ४९५ ०३ ४९८
    जीतेन्द्र कुमार दहायत जअपा ४३८ ०३ ४४१
    नोटा २००८ ०४ २०१२
    कुल १६७०१३ ११९४ १६८२०७
    निरस्त मत ३९९

पवई विधानसभा


प्रत्याशी दल ईव्हीएम से डाक से कुल मत
प्रहलाद लोधी भाजपा १०६१२६ २८५ १०६४११
मुकेश नायक कांग्रेस ८३६१० ७५८ ८४३६८
रामपाल सिंह भगपा ४१०० ०९ ४१०९
हरीलाल चौधरी निर्दलीय ३३८३ ०४ ३३८७
हेमंत ऋषिराज सिंह बसपा ३३०५ ०९ ३३१४
रजनी यादव सपा २८८९ ०७ २८९६
विजय कुमार सोनी निर्दलीय १६७८ ०० १६७८
राममूर्ति चौरसिया निर्दलीय ९२६ ०० ९२६
आनंद विश्वकर्मा निर्दलीय ८४४ ०० ८४४
प्रहलाद चौरसिया निर्दलीय ७३२ ०१ ७३३
प्रहलाद कुमार निर्दलीय ६७६ ०१ ६७७
प्रहलाद प्रजापति निर्दलीय ५६९ ०१ ५७०
आशीष निर्दलीय ४५५ ०० ४५५
आशीष कुमार जअपा ४२७ ०० ४२७
वीरन पटेल राजसं दल २७८ ०० २७८
भरत लाल वाभापा २६७ ०४ २७१
नोटा २४९६ ०२ २४९८
कुल २१२७६१ १०८१ २१३८४२
निरस्त मत ३८१

 

प्रदेशाध्यक्ष श्री शर्मा के संसदीय क्षेत्र की आठों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा की जीत

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष व खजुराहो सांसद विष्णुदत्त शर्मा के लिए बुंदेलखण्ड के साथ ही संसदीय क्षेत्र खजुराहो के अंतर्गत आने वाली विधानसभाओं के परिणाम में करिश्माई नेतृत्व देखने को मिला है विष्णु दत्त शर्मा के नेतृत्व में हुई इस चुनाव में उनके लोकसभा की सभी सीटों में पहली बार एक साथ भाजपा ने जीत दर्ज की जिससे भाजपा के लोग उत्साहित है आज जब मतों की गणना के साथ ही चुनावी परिणाम आए तो भाजपा ने बुंदेलखण्ड की समूची विधानसभाओं में अप्रत्याशित रूप से जीत हांसिल की है। सांसद विष्णुदत्त शर्मा के संसदीय निर्वाचन क्षेत्र खजुराहो में शामिल सभी आठ की आठ विधानसभाओं जिनमें पन्ना जिले की तीन विधानसभा पन्ना, पवई, गुनौर, छतरपुर जिले की दो विधानसभा राजनगर, चंदला तथा कटनी जिले की तीन विधानसभाओं विजयराघवगढ, बहोरीबंद और मुडवारा में भाजपा के प्रत्याशियों को जीत हांसिल हुई है।

भाजपा जिलाध्यक्ष ने जताया मतदाताओं का आभार

जिले की तीनों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा के प्रत्याशियों की जीत पर भाजपा के जिलाध्यक्ष रामबिहारी चौरसिया द्वारा पार्टी के सभी पदाधिकारियों, नेताओं, कार्यकर्ताओं को बधाई देते हुए जिले के मतदाताओं के प्रति आभार जताया है। श्री चौरसिया ने कहा कि भाजपा की जीत प्रधानमंत्री की गारण्टी पर जनता का भरोसा, डबल इंजन की सरकार के विकास और जनकल्याण का परिणाम है।


✎ शिव कुमार त्रिपाठी

सबसे ज्यादा देखी गयी