ताज़ा खबर
पन्ना के भानपुर के अवैध खनन की जानकारी भ्रामक - करुणेंद्र सिंह शशि सिंह परमार बनी महिला मोर्चा पन्ना की जिला अध्यक्ष,, विजय काशी बागरी को अनुसूचित जाति जिलाध्यक्ष बने पूर्व मुख्यमंत्री की रेत जागरण यात्रा,, अजयगढ़ क्षेत्र में कांग्रेसियों का जमघट,, आरोप और प्रत्यारोप राजनीति में असरदार हुए सरदार,,,, इंदिरा गांधी और सरदार बल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि, जिला कांग्रेस अध्यक्ष शारदा पाठक के नेतृत्व में श्रद्धांजलि सभा

चंद्र ग्रहण कल,,,,20 जुलाई के बाद देश की परिस्थितियों में होगा सुधार :- ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री

चंद्र ग्रहण कल,,,,20 जुलाई के बाद देश की परिस्थितियों में होगा सुधार :- ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री

26 मई को चंद्रग्रहण पूर्वी भारत में 18 मिनट दिखाई देगा।

20 जुलाई के बाद देश की स्थिति सुधरेगी :- ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री

(शिवकुमार त्रिपाठी) 26 मई 2021 वैशाख शुक्ल पूर्णिमा 20 जुलाई के बाद देश की स्थिति सुधरेगी :- ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री खग्रास चंद्रग्रहण भारतीय समय अनुसार 3:15 से 6: 23 तक होगा। समाप्त होते हुए ग्रहण भारत के पूर्वी संभागों में चंद्रोदय होने पर सायंकाल मात्र 18 मिनट के लिए, केवल अरुणाचल प्रदेश, असम, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में देखा जा सकेगा इस ग्रहण को अमेरिका, हिंद महासागर, ब्राज़ील, कनाडा, श्रीलंका, चीन रूस, आस्ट्रेलिया आदि देशों में देखा जा सकेगा इस आशय की जानकारी अजय शास्त्री ने दी उनके अनुसार केवल पूर्वी भारत में 26 मई को चंद्रग्रहण वृश्चिक राशि अनुराधा नक्षत्र के तृतीय चरण नू अक्षरोंपरी होने वाला है अतः इन राशि नक्षत्र वाले जातकों को हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, सुंदरकांड आदि का पाठ करना चाहिए।

शनिदेव 141 दिनों तक चलेंगे उल्टी चाल

ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री के अनुसार 23 मई 2021 को शनि वक्री हो चुके हैं 11 अक्टूबर 2021 तक वक्री रहेंगे। 5 राशियों पर रहेगी शनि की विशेष दृष्टि वर्तमान समय में धनु राशि, मकर राशि, कुंभ राशि पर शनि की साढ़ेसाती तथा मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैया चल रही है। इसलिए शनि वक्री होने पर इन राशियों के जातकों को सावधानी बरतनी चाहिए। शनि देव के उपाय व हनुमान आराधना करनी चाहिए।

*शनि वक्री से बन सकते हैं युद्ध जैसे हालात*

ज्योतिषीय गणना के अनुसार शनि ग्रह के इस परिवर्तन से 59 साल बाद ऐसी स्थिति बन रही है। जब मंगल और शनि आमने सामने आने वाले हैं पिछली बार ऐसा 1962 भारत-चीन युद्ध के समय हुआ था। शनि मकर राशि में वक्री हो गए हैं वहीं मंगल 2 जून से 20 जुलाई तक कर्क(नीचराशि) में मंगल गोचर करेंगे, शनि व मंगल की सप्तम ज्योतिषीय दृष्टि से यह समय देश और दुनिया के लिए काफी मुश्किलों भरा रहेगा।
इस समय भीषण प्राकृतिक,विमान विस्फोटक, जीवहानी या अन्य बड़ी घटनाओं होने की आशंका रहेगी। 20 जुलाई के बाद कुछ हालातों में सुधार आएगा।

 

संपर्क करे

“महाविद्याक्षरा ज्योतिष संस्थान”
*ज्योतिषाचार्य अजय शास्त्री*
“धारूहेड़ा चुंगी रेवाड़ी”
मो•7206549883

 

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी