ताज़ा खबर
मतदान 17 को,,, पीले चावल देकर वोट डालने किया आमंत्रित भाजपा ने नहीं किया बुंदेलखंड का विकास,,, भरत मिलन के पक्ष में की रोशनी यादव ने जनसभा, उमड़ी भीड़ कांग्रेस समस्या है, भाजपा समाधान - आदित्यनाथ,,, भाजपा प्रत्याशी बृजेंद्र प्रताप सिंह के समर्थन में की सभा मांगे वोट पन्ना जिले में पवई मे 16, गुनौर में 9 और पन्ना में 11 प्रत्याशी चुनावी मैदान में,,,, मुख्यमंत्री ने देवेंद्रनगर में डॉक्टर राजेश वर्मा के पक्ष में की सभा

अनोखी पहिल :- लॉकडाउन में ग्रामीणों ने बनाई सड़क ,,,, बगैर सरकारी मदद के अपने पैसे और मेहनत से किया अनुकरणीय कार्य

अनोखी पहिल :- लॉकडाउन में ग्रामीणों ने बनाई सड़क ,,,, बगैर सरकारी मदद के अपने पैसे और मेहनत से किया अनुकरणीय कार्य

अनोखी पहिल लॉकडाउन में ग्रामीणों ने स्वयं बनाई सड़क

कुंजवन निवासी 8 परिवारों के आवागमन को नहीं था मार्ग

बगैर सरकारी मदद की किया अनुकरणीय कार

अब प्रशासन और सरकार से इसे पक्का करने की मांग कर रहे

शिवकुमार त्रिपाठी)
कोरोना के कारण हुये लॉकडाउन के दौरान लोग घरों में बंद थे सभी काम बंद हो जाने के कारण कुंजवन में 8 परिवारों ने एक अनोखा काम किया है जिसकी चर्चा अब पूरे इलाके में होने लगी है नरपत सागर तालाब की ऊपरी हिस्से और कुंजवान विद्यालय की पीछे 8 रिफ्यूजी बंगाली परिवार रहते हैं इनके घरों की आवाजाही का मार्ग नहीं था इनके बच्चे जब स्कूल जाते तो बरसात में कीचड़ में गिर जाते थे कई बार जहरीले सांप और बिच्छू ने भी इन्हें कांटा है पंचायत से रास्ता बनाने की मांग की जब किसी ने नहीं सुनी तो ग्रामीणों ने मिलकर स्वयं की मेहनत से आधा किलो मीटर से अधिक का सड़क बनाई है

इन 8 परिवारों ने आपस में 30 हजार रुपए चंदा इकट्ठा किया उससे ट्रैक्टर किराए से लिया और सभी लोग मिलकर रोड बनाने में जुट गए लॉकडाउन का फायदा उठाकर घरों के बच्चे महिलाएं और पुरुष सभी रास्ता बनाने में जुटे रहे करीब 10 फीट चौड़ा रास्ता बना लिया है सड़क के बीच में पानी निकलने छोटी-छोटी दो पुलिया भी बनाई है और आवागमन को सुगम बना लिया है समाज को सीख देने वाला यह अनोखा काम विकास तरुवा, रंजीत बढ़ाई, आनंद बढ़ाई, साधन बढ़ाई ,बाबू बढ़ाई, विप्लव तरुवा ,भंवर रंजन तरुवा, प्रहलाद तरुवा
जैसी 8 परिवारों ने मिलकर किया है महिलाएं बच्चे और पुरुष सभी ने जी जान से इस कार्य में लगे लगे अब 10 फीट चौड़ा रास्ता बन गया है

यह 8 परिवार वर्षों से इस स्थान में रह रहे हैं खेत की मेड़ों से इन्हें गुजरना पड़ता था और रात में अंधेरा होने से जोखिम और भी बढ़ जाता था, सब सभी लोगों ने लॉक डाउन का अच्छा फायदा उठाया है


आनंद बढ़ई का कहना है कि लॉकडाउन के दौरान सभी लोग घरों में थे तब तय किया कि अपना सड़क स्वयं बनाया जाए और हम लोगों ने चंदा करके यह सड़क बनाई है सुबह सोकर उठते थे और काम पर लग जाते थे सभी लोग मिट्टी खोदते थे ट्रैक्टर में भरते थे और सबने मिलकर यह काम किया है

राधा बढ़ाई कहती हैं कि बच्चे जब स्कूल जाते और वापस आते तो जहरीले जीव जंतु सांप बिच्छू काट लेते थे अब इस परेशानी से बच सकेंगे

जानकी तरुआ कहती है हमने सड़क बना ली अब हमारे पास इसमें मोरम और पत्थर डालने के लिए पैसे नहीं है ग्राम पंचायत और कलेक्टर इस में मोरम, पत्थर डालवा दे तो मिट्टी में कीचड़ होना भी बंद हो जाएगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाकडाउन का उपयोग सकारात्मक काम में करने का आह्वान किया था यह बात भले ही पढ़े-लिखे शहरी लोगों तक ना पहुंची हो पर उनकी बात सुनकर अनोखा आईडिया निकालकर गांव के लोगों ने अवश्य अनुकरणीय काम किया है


✎ शिव कुमार त्रिपाठी

सबसे ज्यादा देखी गयी