ताज़ा खबर
श्रीकांत पप्पू दीक्षित की सक्रियता से राजनैतिक सरगर्मियां तेज,, कांग्रेश होगी मजबूत,, दिवारी नृत्य को किया प्रोत्साहित राष्ट्रीय महिला पुरुष युवा वालीबॉल टूर्नामेंट पन्ना में,, प्रभारी मंत्री रामकिशोर कावरे ने ली बैठक, दिए तैयारियों के निर्देश पन्ना केंद्रीय विद्यालय में छात्रों से रूबरू हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा,, समस्याएं सुनी, स्कूल मैं होंगे बड़े काम चाय पर चर्चा, ,, पन्ना के गांधी चौक में सांसद बीडी शर्मा और प्रभारी मंत्री रामकिशोर कांवरे ने चौराहे पर बैठकर चाय पी और आम लोगों से की चर्चा समस्याएं सुनी, सरकार की योजनाओं का सबको मिले लाभ

पंचायत चुनाव :- हाईकोर्ट से याचिकाकर्ताओं को मामूली झटका, त्वरित याचिका सुनने से इनकार किया 3 जनवरी को होगी सुनवाई

पंचायत चुनाव :- हाईकोर्ट से याचिकाकर्ताओं को मामूली झटका, त्वरित याचिका सुनने से इनकार किया 3 जनवरी को होगी सुनवाई

तब तक यथावत होते रहेंगे चुनाव

3 जनवरी को सुनवाई के बाद होगा फैसला

तब तक आधी चुनाव प्रक्रिया संपन्न हो चुकी होगी

(शिवकुमार त्रिपाठी) पंचायत चुनाव मामले  मैंं मध्य प्रदेश हाईकोर्ट का अर्जेंट हियरिंग से इंकार कर दिया है चीफ जस्टिस कीीी बेंच में आज याचिकाकर्ता मध्य प्रदेश में चुनाव प्रक्रििया रोकने के लिए पहुंचे पर हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ताओं को मामूलीी सा कहां इस मामले में हम त्वरित सुनवाई नहीं कर सकतेेेे इस कारण आप अगली तारीख दी जाती है और सुनवाई के लिए 3 जनवरी की अगली तारीख निर्धारित कर दी गई तब तक चुनाव प्रक्रिया रोकने से भी इनकार किया है लिहाजा मध्य प्रदेश के पंचायत चुनाव में जो त्रिस्तरीय पंचायती राज चुनाव हो रहे हैं उसकी प्रक्रिया यथावत जारी रखें रहेगी और जब तक हाई कोर्ट में सुनवाई होगी तब तक आधी से अधिक चुनाव प्रक्रिया संपन्न हो चुकी होगी लिहाजा अब उम्मीद जताई जा रही हैै जो  कि जो 2014 की पुरानी आरक्षण के तहत चुनाव कराए जा रहे हैं उसी तरह चुनाव संपन्न हो जाएंगे 

ज्ञात हो कि कल सुप्रीम कोर्ट ने पंचायत चुनाव नोटिफिकेशन में इंटरफेयर करने से मना कर दिया था और कहा था कि हाईकोर्ट जाए और हाईकर्ट ही इन याचिकाओं को सुनकर फैसला लेगा

 

चीफ जस्टिस की बेंच ने याचिकाओं पर त्वरित सुनवाई से किया इंकार…

HC ने 3 जनवरी को तय की याचिकाओं पर सुनवाई..

याचिकाओं में पंचायत चुनाव आरक्षण को दी गई है चुनौती..

SC के आदेश के बाद फिर HC की शरण मे हैं याचिकाकर्ता

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी