ताज़ा खबर
पन्ना - सांसद वीडी शर्मा ने गुमटी में पी चाय,,,,,नगर में पैदल घूमकर लोगों से की मुलाकात पन्ना रेडक्रॉस सोसाइटी के चुनाव में खूब हुआ हंगामा,,चुनाव टले,, मुकेश नायक गुट का रहा दबदबा पन्ना - बर्निंग बस हादसे के दोषी ड्राइवर को 190 वर्ष की सजा मालिक 10 वर्ष रहेंगे सलाखों में पन्ना- बर्निंग बस हादसे के दोषी ड्राइवर को 190 वर्ष की सजा, मालिक 10 वर्ष रहेंगे सलाखों में

मुरलिया में हीरा जड़े ,, श्री जुगलकिशोर मंदिर मैं जन्मोत्सव की धूम,,

मुरलिया में हीरा जड़े ,, श्री जुगलकिशोर मंदिर मैं जन्मोत्सव की धूम,,

मुरलिया में हीरा जड़े ,,

बुंदेलखंड में अनोखा है जुगल किशोर जी का मंदिर

(शिवकुमार त्रिपाठी)  पन्ना के जुगल किशोर मुरलिया में हीरा जड़े हैं ” यह लोक भजन बुंदेलखंड के हर गांव और घर में प्रत्येक शुभ कार्य में गाया और बजाया जाता है यह लोक भजन पन्ना के ऐतिहासिक जुगल किशोर जी मंदिर की महिमा से जुड़ा हुआ है बुंदेलखंड के आराध्य देव श्री जुगल किशोर जी की महिमा निराली है कहते हैं जो भी श्रद्धा भाव से वर मांगा जाता है सभी पूर्ण होते हैं तभी तो पूरे भारतवर्ष के लोग यहां दर्शन करने आते हैं और भक्त भगवान की नयनाभिराम झांकी को देखकर अभिभूत हो जाते इस ऐतिहासिक अद्भुत मंदिर की परंपराएं भी निराली है कहते हैं भगवान जुगल किशोर जी के राज्य में कभी कोई भूखा नहीं सोता इसीलिए भगवान को दोपहर का भोग 2:30 बजे एवं रात की बयारी आरती 10:30 बजे होती है जब सामान्यतः सभी लोग दोपहर का भोजन एवं रात्रि की बयारी कर चुके होते हैं इस मंदिर से भक्तों की कई किंबदंती या जुड़ी है जिस में हिम्मत दास जी को प्रत्यक्ष दर्शन देना प्रमुख है शहर का प्रत्येक नागरिक दिन में एक बार मंदिर दर्शन करने अवश्य आता है

श्री जुगल किशोरजी मंदिर का निर्माण पन्ना के चौथे बुंदेला राजा राजा हिंदूपत सिंह ने अपने शासनकाल के दौरान 1758 से 1778 तक किया था। किंवदंतियों के अनुसार, इस मंदिर के गर्भगृह में रखी गई मूर्ति को ओरछा के रास्ते वृंदावन से लाई गई थी। स्वामी के आभूषण और पोशाक बुंदेलखंडी शैली को दर्शाते हैं। मंदिर में बुंदेली स्थापत्य कला से बनाया गया है, जिसमें एक नट मंडप, भोग मंडप और प्रदक्ष्णा मार्ग शामिल हैं। मंदिर दर्शन प्रतिदिन सुबह 5 बजे,सुबह 7 बजे,दोपहर 12 बजे और शाम 7 बजे होते हैं और कनक कटोरा से लेकर शाम तक की आरती के समय पट खोले जाते हैं

श्री जुगल किशोर जी मंदिर पन्ना

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी