लापरवाही की तो नहीं छोड़ेगा कोरोना,,, जिले में डॉक्टरों का अभाव ,,, खतरा बडा,,31 मरीज मिले

31 मरीज मिले ,,तेजी से बढ़ रही है संख्या

Cmho एलके तिवारी भी छुट्टी में

डॉ एस के त्रिपाठी को  पन्ना  लाने की प्रयास विफल

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष सतानंद गौतम ने उठाया  डॉक्टर की कमी का मुद्दा

अस्पताल में नहीं मिलते डॉक्टर कहा कराएं इलाज

(शिवकुमार त्रिपाठी) पन्ना जिले में कोरोना संक्रमण की रफ़्तार अब दिनों दिन बढ़ रही है। शनिवार को आज जिले में 31 कोरोना पॉजिटिव मरीज मरीज मिले हैं, जो एक ही दिन में मिलने वाले पॉजिटिव मरीजों की बड़ी संख्या है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पन्ना द्वारा आज जारी की गई हेल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि शनिवार 26 सितम्बर को जिले में 31 नये कोरोना पॉजिटिव प्रकरण पाये गये हैं। जिसके अन्तर्गत पन्ना शहर में 13 प्रकरण, अजयगढ़ में 2, देवेंद्रनगर में 1, अमानगंज में 1, पवई में 12 तथा शाहनगर में 2 पॉजिटिव प्रकरण पाये गये हैं। इस तरह से अब जिले में कोरोना पॉजिटिव प्रकरणों की पुष्ट संख्या छः सौ के पार 639 हो गई है। दी गई जानकारी के मुताबिक अब तक जिले में 498 मरीज संक्रमित होने के उपरांत स्वस्थ हो चुके हैं, फलस्वरूप कोरोना के एक्टिव पुष्ट प्रकरणों की संख्या वर्त्तमान में 138 है। जिनका जिले के विभिन्न कोविड संस्थानों में चिकित्सकों की देखरेख में उपचार चल रहा है

  वही पन्ना जिला चिकित्सालय में डॉक्टरों की कमी तेजी से फैल रही है क्योंकि अब इलाज करने के लिए भी डॉक्टर उपलब्ध नहीं हो पाते डॉक्टर प्रदीप द्विवेदी लंबी छुट्टी पर चले गए हैं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एनके तिवारी पहले से ही छुट्टी में चल रहे हैं दो डॉक्टर करुणा से पीड़ित है ऐसे में जिला अस्पताल में डॉक्टरों की कमी खल रही है और मरीज दर-दर भटक रहे हैं जिले में प्राइवेट अस्पताल ना होने के कारण और भी हालात बिगड़ते जा रहे हैं इस कारण लापरवाही आओ खतरनाक हो सकती है यदि लापरवाही की तो करो ना किसी को नहीं छोड़ेगा इसलिए कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का अवश्य पालन करें मास्क लगाए अनावश्यक घरों से ना निकले और जितना संभव हो अपने सभी काम घर पर रहकर ही करें        

डॉक्टरों की कमी पूर्ण किया जाना जरूरी है सतानंद

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष सतानंद गौतम ने जिला चिकित्सालय में डॉक्टर की कमी का मुद्दा उठाया और कहा कि लोगों को इलाज  नहीं मिल पा रहा है और बड़ी संख्या में मरीज परेशान होकर इधर-उधर भटक रहे हो ऐसे में डॉक्टरों की कमी को पूर्ण किया जाना अति आवश्यक है और प्रबंधन को ध्यान देना चाहिए कि डॉक्टरों को भी परेशानी न हो और मरीजों को भी आसानी से इलाज सुलभ हो सके भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष ने कहा कि डॉ एस के त्रिपाठी को पन्ना लाने के प्रयास तत्परता से किए जाने चाहिए जिससे मेडिसिन का एक और डॉक्टर मिल सके

कोरोना के चलते कलेक्टर से अब सीधे नहीं मिल सकेंगे लोग 

जिले में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुये अब आम जन कलेक्टर से सीधे नहीं मिल सकेंगे। कलेक्टर कार्यालय में विभिन्न कार्यो के लिए आने वाले लोगों को जिन्हें सीधे कलेक्टर संजय कुमार मिश्र से बातचीत करनी हो या कोई समस्या सुनानी हो तो अब कलेक्टर कक्ष में जाकर मिलने के बजाय कलेक्टर कार्यालय में आम आदमी से बातचीत करने के लिए वीडियो कान्फ्रेंसिंग की व्यवस्था की गई है। इस व्यवस्था के तहत कोई भी व्यक्ति कलेक्टर से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत कर सकेगा। यह व्यवस्था कोरोना वायरस संक्रमण रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए की गयी है। 

कोविड केयर सेंटर पुराना पन्ना में देखी व्यवस्थायें 

कलेक्टर संजय कुमार मिश्र द्वारा शासकीय मॉडल स्कूल पन्ना में स्थापित कोविड केयर सेंटर का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। उन्होंने वहां पर कोविड पॉजिटिव मरीजों के लिए की गयी व्यवस्थाओं का जायजा लिया। वहां भर्ती कोविड पॉजिटिव व्यक्ति से चर्चा कर उसको उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने उसके स्वास्थ्य के संबंध में चर्चा करते हुए पूछा की दवाएं, भोजन एवं अन्य सुविधाए उपलब्ध हो रही हैं की नहीं। संबंधित द्वारा बताया गया कि सेंटर में दवा, भोजन एवं अन्य सुविधाएं यहां तैनात कर्मचारियों द्वारा समय समय पर उपलब्ध कराई जा रही है। कलेक्टर श्री मिश्र ने कोविड केयर सेंटर में ड्यूटी दे रहे कर्मचारियों से चर्चा कर वहां की व्यवस्थाओं एवं मरीजों के संबंध में जानकारी ली। 

  • कोरोना संक्रमण रोकने उपाय सभी लोग अपनायें -कलेक्टर

कलेक्टर  संजय कुमार मिश्र ने जिले के लोगों से अपील करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सभी की सहभागिता जरूरी है। व्यक्ति स्वयं के स्वास्थ्य की रक्षा करने के साथ अन्य लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा तभी कर सकता है जब वह कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए जारी दिशानिर्देशों का कडाई से पालन करेगा। उन्होंने कहा कि व्यवसायी, निजी संस्थान, शासकीय कार्यालयों में कार्यरत व्यक्ति मास्क नहीं तो बात नहीं के सिद्धांत को अपनायें। सभी लोग आपस में 06 फिट की दूरी रखने के साथ चेहरे पर मास्क लगायें। हांथों को सेनेटाइज करें अथवा बार बार साबुन से हांथों को धोते रहें। कही भी भीड के रूप में एकत्र न हों। इसी प्रकार आयोजित होने वाले निजी एवं सार्वजनिक कार्यक्रमों में निर्धारित संख्या से अधिक लोग शामिल न हों। ऐसा करने से स्वयं के साथ अन्य लोगों के जीवन की रक्षा की जा सकती है। इस सब के लिए आमजन की सहभागिता आवश्यक है। शासन द्वारा अपने स्तर पर आम आदमी की सुरक्षा के लिए प्रभावी प्रयास कियेजा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मास्क न लगाने वाले व्यक्तियों पर चालानी कार्यवाही करते हुए 100 रूपये की वसूली की जायेगी। इसके अलावा कोरोना संबंधी दिशानिर्देशों का पालन न करने पर अर्थदण्ड के साथ अन्य नियमानुसार कार्यवाही की जायेगी।