हाईवे चौड़ीकरण मामले में सांसद ने लिया संज्ञान,,, अनियमितता देख भड़के कलेक्टर कर्मवीर लगाई फटकार,,,

NH चौड़ीकरण मामले में सांसद ने लिया संज्ञान,,

जांच करने पहुंचे कलेक्टर कर्मवीर शर्मा मिली अनियमितताएं,, लगाई फटकार

कल एक्सीडेंट के बाद हाईवे में जाम लगने से लोग होते रहे परेशान

कहीं चौड़ा कहीं सकरा बना दिया है नेशनल हाईवे

सांसद एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कलेक्टर से कार्यवाही करने को कहा

EE शंकरलाल को किया तलब को किया तलब

सांसद ने कहा पूरा चौड़ा बनाया जाएगा हाईवे

विभाग पुनः फोरलेन का प्रस्ताव बनाएग

2019 तक एनओसी होने के बाद हाईवे मैनेजमेंट ने नहीं किया काम

डीपीआर के अनुसार नहीं कराया जा रहा काम ,कई जगह गुणवत्ता विहीन काम मिला

पुलिया बना दी गई सकरी

(शिवकुमार त्रिपाठी) पन्ना जिले से होकर गुजरने वाला नेशनल हाईवे 39 कहीं चौड़ा तो कहीं सकरा बना दिया गया है कई जगह तो यह साडे 5 मीटर ही है इस कारण हादसे हो रहे कल एक्सीडेंट के बाद राष्ट्रीय राजमार्ग में 4 घंटे से अधिक समय तक के लिए बन्द रहा, यह खबर खजुराहो सांसद एवं भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा के पास पहुंची और मीडिया रिपोर्ट के बाद सांसद हरकत में आए हैं उन्होंने विभागीय अधिकारियों को फटकार लगाई है और जिम्मेदार अधिकारियों को तलब किया है साथ ही सांसद ने पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा को निर्देश दिए हैं कि रोड के चौड़ीकरण मामले की पूरी प्रक्रिया स्वीकृति एवं गुणवत्ता की स्वयं जांच करें और इस मामले को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग के समान रुप फोरलेन निर्माण और इसमें आ रही समस्याओं की समाधान की कार्यवाही करें और वन विभाग से जो अनुमतिया प्राप्त नहीं हुई है सभी एनओसी दिला कर रोड के चौड़ीकरण का कार्य तत्काल प्रारंभ कराएं

वन विभाग की अड़ंगेवाज NOC

जब नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण का प्रोजेक्ट तैयार किया गया था तब 2014 में मंडला से मनोर तक टाइगर रिजर्व में जितना रोड वर्तमान में है उतना ही निर्माण करने की अनुमति दी थी
इसी तरह उत्तर वन मंडल ने 2011 में पन्ना शहर से राजादहार (देवेंद्रनगर) तक उत्तर वन मंडल ने 12 मीटर रोड निर्माण की अनुमति दी थी नेशनल हाईवे अथॉरिटी ने 2018 में ठेकेदार से अनुबंध किया पर ठेकेदार ने NOC के अनुसार काम नहीं शुरू किया वन विभाग ने अड़ंगेवाजी कर एक वे पत्र जारी कर दिया 7 जनवरी 2019 को पुनः एनओसी प्राप्त करने और जितनी सड़क है उतना ही निर्माण करने का पत्र जारी कर दिय
लापरवाह नेशनल हाईवे अथॉरिटी ने इस काम में को उलझा दिया और कहीं सड़क चौड़ा तो कहीं सकरा बनाना शुरू कर दिया है जिससे आवागमन में परेशानी हो रही और एक्सीडेंट हो रहे हैं इसका विरोध हो रहा है और बराबर चौड़ा सड़क बनाई जाने की मांग उठ रही है तो अब विभाग के लोग पुनः इस सड़क के फोरलाइन बनाने का प्रोजेक्ट तैयार करने की बात कर रहे हैं
प्रश्न यह है कि जब वन विभाग की एनओसी मिल चुकी थी तो उसी एनओसी के अनुसार 12 मीटर निर्माण क्यों नहीं किया, प्रोजेक्ट सैंक्शन के बाद NOC में संशोधन हुआ था तो पुनः एनओसी प्राप्त करने ईमानदारी से प्रयास क्यों नहीं किए इसी हाईवे अथारिटी की कार्यप्रणाली से कलेक्टर नाराज हैं
अब जिला प्रशासन हरकत में आ गया है और निर्माण एजेंसी को तलब कर मामले की जांच शुरू कर दी गई

निर्माणाधीन सड़क की जांच करने पहुंचे कलेक्टर


पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने सड़क के कहीं चौड़ी कहीं सकरा और कहीं गुणवत्ता हीन काम को लेकर जो लगातार शिकायतें मिल रही हैं उस पर गंभीरता से जांच शुरू कर दी है आज वे स्वयं नेशनल हाईवे 39 पहुंचे बाईपास मदर टेरेसा हॉस्पिटल के पास पुल और शहर के मध्य बन रही फोरलेन की जांच स्वयं की और विभागीय अधिकारियों और जिम्मेदार निर्माण एजेंसी के लोगों के सामने सड़क की जांच की और स्वयं नाप कराई लेकिन जैसे ही उन्हें अधिकारियों ने टेक्निकल मामलों में घुमाना शुरू किया तब कलेक्टर इंजीनियरों की चालाकी समझ गए उन्हें जमकर फटकार लगाई और तत्काल शंकरलाल को निर्देश दिए कि जो अधिकारी काम में लापरवाही कर रहे हैं तत्काल उनकी वेतन वृद्धि रोकी जाए और जो सुपरविजन एजेंसी है उन पर भी कार्यवाही करें

कलेक्टर के बार-बार मांगने के बाद भी जिम्मेदार अधिकारी ड्राइंग डिजाइन और डीपीआर की जानकारी नहीं दे रहे थे
ऐसा लग रहा था कि विभाग के तकनीकी अधिकारी कलेक्टर से कुछ छुपा रहे हैं जिस पर कलेक्टर को गुस्सा आ गया और उन्होंने इन अधिकारियों को फटकार लगाई और काम में सुधार करने के आदेश दिए

सड़क में दब गई पेयजल की पाइप लाइन

कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने पाया कि शहर के बीच जो फोरलेन बन रहा है वह मोहन निवास चौराहे से डायमंड चौराहे की बीच की जो पेयजल आपूर्ति की पाइपलाइन है वह सड़क के बीच में दब गई है और इससे भविष्य में नल कनेक्शन खराब होंगे और पाइपलाइन टूटेगी इस कारण उन्होंने तत्काल निर्देश दिए कि जब तक पाइपलाइन बगल में शिफ्ट नहीं कर दी जाती तब तक इसके ऊपर निर्माण कार्य न किया जाए

अनियमितताएं मिली

कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने पन्ना एसडीएम शेर सिंह राणा और तहसीलदार दीपा चतुर्वेदी को निर्देश दिए कि पन्ना जिले की सीमा मैं निर्माणाधीन नेशनल हाईवे की गुणवत्ता और तकनीकी पहलुओं की जांच करें जब ये अधिकारी राष्ट्रीय राजमार्ग के जिम्मेदार अधिकारी एवं निर्माण एजेंसी को लेकर जांच करने पहुंचे तो गंभीर खामियां मिली हैं जिसमें डीपीआर के अनुसार सड़क का काम नहीं किया जा रहा है जिन पुलिया में दो पाइप लाइन डालने और कई पुलिया के एक्सटेंशन का कार्य स्वीकृत है पर निर्माण एजेंसी ने दो की जगह एक पाइप लाइन डाल दी है पुलिया सकरी हो गई जिससे यहां पानी निकलने में असुविधा होने लगी है भविष्य में कई घरों में पानी भर जाएगा, इसके अलावा रोड के किनारे मिट्टी फिलिंग की कंपोस्टिंग न करना , बैस्टेज मटेरियल सड़क के किनारे डाल देना, कई जगह डामर रोड उखाड़ना , मिक्स प्लांट के बगैर डब्ल्यूबीएम का काम करना , रोलिंग न करना जैसी कई तकनीकी समस्याएं मिली है

बोले शंकरलाल

इस संबंध में जिम्मेदार अधिकारी EE शंकरलाल ने कहा कि मुझे लगता है कि सुपर विजन एजेंसी सही ढंग से काम नहीं कर रही है हम इनका 3 माह का भुगतान काट रहे हैं और यह बात सही है कि पुलिया में का चौड़ीकरण नहीं किया गया है अब हम इनको तुड़वा कर दूसरी पाइप डलवाएंगे, देवेंद्रनगर में जो सड़क धंस गई है उसे पूरा उखड़ा कर पुनः बनवा रहे हैं उन्होंने कहा कि ठेकेदार को डीपीआर के अनुसार काम करना पड़ेगा अन्यथा कार्यवाही करेंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.