ताज़ा खबर
पन्ना टाइगर रिजर्व में टाइगर की मौत,, क्षत-विक्षत हालत में रोड के किनारे मिला 10 दिन पुराना कंकाल, मामला संदिग्ध पंचतत्व में विलीन हुए पन्ना महाराज राघवेंद्र,,, छत्रसाल द्वितीय का हुआ राजतिलक, पन्ना के कपड़ा व्यापारी संजय सेठ दंपति की गोली लगने से मौत,,, सीने में गोली मारकर आत्महत्या SJS पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव 29 जनवरी को,,, प्रभारी मंत्री रामकिशोर कावरे, मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह होंगे शामिल

टाइगर के शिकार की आश्चर्यजनक घटना,,,,, तार के फंदे से पेड़ लटका मिला बाघ,, मचा हड़कंप,,, जांच कर रहे – CCF

टाइगर के शिकार की आश्चर्यजनक घटना,,,,, तार के फंदे से पेड़ लटका मिला बाघ,, मचा हड़कंप,,, जांच कर रहे – CCF

पन्ना रेंज के तिलगवा बीट की घटना ,

सीसीएफ छतरपुर संजीव झा, टाइगर रिजर्व की डिप्टी डायरेक्टर रिपुदमन सिंह और वाइल्डलाइफ विशेषज्ञ डॉक्टर संजीव गुप्ता जांच में जुटे

टाइगर का शिकार बड़ी घटना मचा हड़कंप

 

(शिवकुमार त्रिपाठी) पन्ना में एक युवा नर बाघ की पेड़ के फंदे में फांसी लगने से संदिग्ध परिस्थितियों में सनसनीखेज मौत का मामला प्रकाश में आया है देश की यह पहली घटना होगी जब एक बाघ की फांसी लगने से लटक कर मौत हुई है यह शिकार का प्रथम दृष्टा मामला है जब किसी शिकारी ने मारने के लिए तार का फंदा लगाया और बाघ इसमें भास्कर मर गया देखने में ऐसा प्रतीत होता है

कि यह लाश 4 से 5 दिन पुरानी है हालांकि घटना की सूचना वन विभाग को 6 दिसंबर की शाम मिल गई थी और मामले को पूरी तरह से छुपाने और दबाने का प्रयास किया गया वन विभाग की टीम रात भर जंगल में सर्चिंग करती रही पर अभी तक कुछ पता नहीं चला इस संदिग्ध बेहद संगीन मामले की वन विभाग जांच करने में लग गया है उत्तर वन मंडल के पन्ना रेंज अंतर्गत विक्रमपुर की तिलगवा बीट फांसी के फंदे से लटका मिला विक्रमपुर नर्सरी के पास इस बाघ के शव मिलने से हड़कंप मच गया है देश की यह पहली घटना होगी जब किसी बाघ की फांसी लगने से मौत हुई है इस संबंध में सीसीएफ छतरपुर संजीव झा पूरे मामले की जांच कर रहे हैं उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को सख्त निर्देश भी दिए हैं

घटना के संबंध में जानकारी देते हुए सीसीएफ छतरपुर संजीव झा ने बताया कि यह प्रारंभिक रूप से शिकार का मामला लग रहा है हम सभी पहलुओं पर जांच कर रहे हैं उन्होंने कहा कि एसटीएफ को यह मामला सोप रहे हैं इसके अलावा पन्ना टाइगर रिजर्व के बाघ मामलों से जुड़े डॉ संजीव गुप्ता टाइगर रिजर्व का डॉग स्कॉट और सतना जिले का डाग स्क्वायड भी बुलाया गया है सभी मामले की जांच में लगे हुए हैं इससे जुड़ी किसी भी शिकारी या घटना के जिम्मेदार व्यक्ति को नहीं छोड़ा जाएगा

डॉक्टर संजीव गुप्ता ने किया पोस्टमार्टम

पन्ना टाइगर रिजर्व में लंबे समय से बाघों के बीच काम करने वाले प्रतिष्ठित डॉक्टर संजीव गुप्ता सुबह मौके पर पहुंचे और पूरे पहलुओं की जांच करते हुए उन्होंने पोस्टमार्टम किया और मौत के कारणों को जानने का प्रयास किया आखिर बाघ की मौत कैसे हुई है और शिकार किया गया है तो किस तरह से हुई बाघ की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत और शिकार के इस सनसनीखेज मामले को वन विभाग के अधिकारियों ने खूब दबाने की कोशिश की मीडिया कर्मियों को मौके तक नहीं जाने दिया और जब पहुंचे तो इसके पहले तार के फंदे को काट दिया गया था और बाघ को नीचे उतार लिया, बाघ की शव पीछे से सड़ गया था और खूब बदबू आ रही थी कई दिनों बाद वन विभाग को इसकी मौत की जानकारी लगी 

जो बाघ टाइगर रिजर्व से बाहर गए जिंदा नहीं लौटे

बाघ के शिकार का यह पहला मामला नहीं है कई बाघों को इसी तरह मारा गया है पन्ना टाइगर रिजर्व के कोर जोन से जो भी वह बाहर जाता है इसी तरह स्वीकार कर लिया जाता है ऐसा ही इस 2 वर्ष के युवा बाग के साथ हुआ जो पन्ना के ही उत्तर बन मंडल में मारा गया इससे पहले एक बाघ की चित्रकूट में मझगवां में शिकार कर गायब करने की कोशिश की गई थी इसी तरह कुछ दिन पूर्व हीरा मोती में से एक बाघ को सिंह पुर के पास मारा गया इस तरह कई घटनाएं हैं जो पन्ना टाइगर रिजर्व के बाद बाहर गए उनका शिकार कर लिया गया अब इस बात की जंगल में मौत शिकारियों की मौजूदगी की ओर इशारा कर रही है जो बेहद चिंता का विषय है

पन्ना टाइगर रिजर्व में 2009 में बाघ पूरी तरह से खत्म हो गए थे 4 मादा एवं एक नर बाघ को कान्हा बांधवगढ़ और पेट से लाकर यहां बसाया गया जिसकी संख्या बढ़कर 50 से अधिक हो गई थी अब यही बाग पन्ना की जंगलों से बाहर जा रहे हैं और उनका शिकार हो रहा है जो गंभीर चिंता का विषय है और बाघों की दुनिया जो पन्ना में आवाज हुई है उसमें किसी की नजर सी लगती दिख रही है क्योंकि लगातार बाद मर रहे हैं अभी हाल ही में एक बाघ की माथे में चोट और घाव होने की जानकारी सामने आई थी जिसका 2 दिन पूर्व इलाज किया गया अब एक बाघ का इस तरह शिकार गंभीर चिंता का विषय है यदि इसे गंभीरता से नहीं लिया गया तो वह दिन दूर नहीं जब पन्ना मैं जिस तरह से बाघ मर रहे हैं और इनका शिकार हो रहा है अब पन्ना को भी अलार्म इन स्टेज में रखा जाएग

पन्ना जिले में टाइगरों कि लगातार मौत हो रही है एक आज आश्चर्यजनक घटना घटी है जिसमें पेड़ में फांसी लगने से एक वयस्क टाइगर की मौत हो गई आदमकद शरीर के इस हेल्थी बाघ की क्लच वायर से एक पेड़ से लाश लटकी हुई मिली है जिससे वन विभाग में हड़कंप मच गया है जिले के विक्रमपुर में नर्सरी के पास एक पेड़ से टाइगर का पूरा बजनी शरीर पेड़ में लटका हुआ मिला है आखिर टाइगर की फांसी लगने से कैसे मौत हुई यह सब लोग देखकर आश्चर्यचकित हैं वन विभाग और पन्ना टाइगर रिजर्व की टीम मौके पर पहुंच गई है सभी लोग आश्चर्य है कि आखिर पेड़ में टाइगर कैसे पहुंचा और उसका पेड़ से फंदा कैसे लग गया वन विभाग में हड़कंप मचा हुआ है

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी