पन्ना टाइगर रिजर्व खुला,, बाघ दर्शन को पहुचे टूरिस्ट

  1. पर्यटकों के भ्रमण को खुला पन्ना टाईगर रिजर्व

  •   मड़ला प्रवेश द्वार पर पर्यटकों का हुआ आत्मीय स्वागत

  •   प्रातः मड़ला गेट से 10 पर्यटक वाहनों ने किया प्रवेश

पर्यटकों के भ्रमण हेतु आज खोले गये मंडला प्रवेश द्वार का नजारा।

 

  1. (शिवकुमार त्रिपाठी),  कोरोना  के कारण लंबे समय से बंद पन्ना टाइगर रिजर्व टूरिस्टो के लिए  सोशल डिस्टेंसिंग के साथ खोल दिया गया  बाघों के  दीदार  के लिए  मशहूर बुंदेलखंड  का खूबसूरत  टाइगर रिजर्व  में  पहले दिन ही देशी और विदेशी सैलानी पहुंची  कोरौना गाइडलाइन लिए के साथ  टाईगर रिजर्व के दोनों प्रवेश द्वारों मड़ला एवं हिनौता में फिर से चहल पहल शुरू हो गई है। पहले दिन आज टाईगर रिजर्व के मड़ला प्रवेश द्वार पर पार्क भ्रमण हेतु  आने वाले पर्यटकों का प्रातः 6 बजे  पन्ना टाइगर रिजर्व के पंजीकृत गाइड, क्षेत्र संचालक एवं अन्य स्टाफ तथा टूर आपरेटरों के द्वारा स्वागत किया गया। आज प्रातः मड़ला गेट से 10 पर्यटक वाहनों ने प्रवेश किया है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण को देखते हुये पार्क प्रबंधन द्वारा सभी जरुरी तैयारियां कर ली गई थीं। पार्क भ्रमण हेतु जाने वाले पर्यटकों को कोरोना गाइड लाइन का पालन करने को कहा गया है। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक नवागत क्षेत्र संचालक पन्ना टाईगर रिजर्व उत्तम कुमार शर्मा ने आज सुबह फीता काटकर विधिवत पर्यटक वाहनों को मंडला गेट से प्रवेश करने की इजाजत दी। बेहद खुशनुमा माहौल में आज सुबह मड़ला गेट से 10 पर्यटक वाहनों ने प्रवेश किया, जिनमें सभी भारतीय पर्यटक सवार थे। गौरतलब है कि पन्ना टाईगर रिजर्व का जंगल मौजूदा समय बाघों से गुलजार है। यहाँ के वन क्षेत्र में 27 वयस्क तथा 27 अर्धवयस्क बाघों सहित 9 शावक विचरण कर रहे हैं। जिससे पन्ना पार्क के प्रति देशी व विदेशी पर्यटकों का आकर्षण बढ़ा है। इस मौसम में टाईगर रिजर्व की हरी-भरी वादियां और गहरे सेहा भी पर्यटकों को लुभा रहे हैं। बाघों का कुनवा बढने से बाघ दर्शन की संभावनायें भी पहले के मुकाबले बढ़ी हैं, जिससे पर्यटक पन्ना टाईगर रिजर्व के भ्रमण को प्राथमिकता देने लगे हैं। कोर क्षेत्र के अलावा पन्ना टाईगर रिजर्व के बफर क्षेत्र अकोला एवं झिन्ना को पर्यटन हेतु विकसित किया गया है।