ताज़ा खबर
CM शिवराज एवं बीडी शर्मा पन्ना में जनकल्याण एवं सुराज सभा को करेंगे संबोधित युवती एसिड मामला- आंखें सुरक्षित-- प्रशासन,, जिले में कॉग्रेस का प्रदर्शन और ज्ञापन, एसपी कलेक्टर की प्रेस कॉन्फ्रेंस और धन्यवाद किशोरी पर एसिड अटैक,, मचा हड़कंप,, एसपी,कलेक्टर मिलने पहुंचे, कांग्रेस अध्यक्ष ने की कार्यवाही की मांग बरसते पानी में कांग्रेस का प्रदर्शन,,, स्वास्थ्य आव्यवस्थाओं के खिलाफ दिया ज्ञापन

सतना जिले के जंगल में बाघ का शिकार,,,,, पन्ना टाइगर रिजर्व का हो सकता है यह टाइगर

सतना जिले के जंगल में बाघ का शिकार,,,,, पन्ना टाइगर रिजर्व का हो सकता है यह टाइगर

दुखद खबर बिग ब्रेकिंग
सतना जिले की जंगल में टाइगर का शिकार

(शिवकुमार त्रिपाठी)

बाघ दुनिया से खत्म हो रहे हैं इनको बचाने के लिए करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाए जा रहे हैं पर दूर दंत शिकारी जंगल के राजा को मौत के घाट उतारने से बाज नहीं आ रही है ऐसी ही एक बड़ी खबर सतना जिले से सामने आई है जिसमें चित्रकूट इलाके की मझगवा रेंज में एक पूर्ण वयस्क बाघ का शिकार कर दिया गया इस दुखद खबर से लोग सकते में है हालांकि बन अमला शिकारियों को पकड़ने और घटना की पता साजी में लगा हुआ है पर पन्ना टाइगर रिजर्व के लोगों को अब तक जानकारी भी नहीं दी
इस संबंध में डिप्टी डायरेक्टर जांगरे ईश्वर रामाहरि और वन्य प्राणी चिकित्सक डॉ संजीव गुप्ता से बात की तो पूरी घटना से अनभिज्ञ थे और जैसे ही घटना पता चली दुखी हो उठे एक वयस्क बाघ का शिकार करना समाज के लिए बड़ा नुकसान और दुखद खबर है सूत्रों के मुताबिक इस इलाके में पी 213 22 बाघ की मौजूदगी थी जो अपने दो बच्चों के साथ विचरण कर रही थी अगर उसी में ऐसा हुआ तो है तो निश्चित ही बहुत बड़ा नुकसान है
इस घटना से स्पष्ट हो गया है कि सतना जिले का जंगल बाघों के लिए उपयुक्त नहीं है और पन्ना के बाघ आसपास के इलाके में विचरण करने पहुंच जाते हैं और उसका परिणाम उन्हें अपनी जान गवा कर भुगतना पड़ता है

सतना में टाइगर का शिकार
चित्रकूट के पास शिकारियों ने बाघ का करंट लगाकर किया शिकार
घटना के बाद क्षेत्र में हड़कंप

मझगंवा रेंज के अमिरती बीट के कक्ष क्रमांक 108 मे बाघ का हुआ शिकार, करंट लगाकर शिकारियो ने बाघ को उतारा मौत के घाट, दुधमनिया के जंगल मे हुआ शिकार, देर रात की घटना

पन्ना टाइगर रिजर्व का बाघ P-213-22 की मौजूदगी थी इस इलाके में,,,, बाघ की पहचान के प्रयास शुरू

✎ शिवकुमार त्रिपाठी (संपादक)
सबसे ज्यादा देखी गयी